• Regd. No-160/16

90% मुस्लिम आबादी वाला ये देश है 'राम' का भक्त यहां के मुस्लिम भी भगवान राम को अपने जीवन का नायक मानते हैं.

18-10-2018 08:03:37 PM

 गाजियाबाद से पिंटू दुबे की रिपोर्ट 

दुनिया में सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश इंडोनेशिया के लिए रामकथा यानी रामायण एक बेहद महत्वपूर्ण ग्रंथ है. इस देश में अयोध्या भी है और यहां के मुस्लिम भी भगवान राम को अपने जीवन का नायक और रामायण को अपने दिल के सबसे करीब किताब मानते हैं.
दक्षिण पूर्व एशिया में स्थित इंडोनेशिया की आबादी तकरीबन 23 करोड़ है. यह दुनिया का चौथा सबसे अधिक आबादी वाला देश है और साथ ही सबसे बड़ा मुस्लिम आबादी वाला देश भी है.
साल 1973 में यहां सरकार ने अंतरराष्ट्रीय रामायण सम्मलेन का आयोजन भी किया था. ये अपने आप में काफी अनूठा आयोजन था, क्योंकि घोषित रूप से कोई मुस्लिम राष्ट्र पहली बार किसी अन्य धर्म के धर्मग्रन्थ के सम्मान में इस तरह का कोई आयोजन कर रहा था.
 इंडोनेशिया में आज भी रामायण का इतना गहरा प्रभाव है कि देश के कई इलाकों में रामायण के अवशेष और पत्थरों तक की नक्‍काशी पर रामकथा के चित्र आसानी से मिल जाते हैं.
भारत और इंडोनेशिया की रामायण में थोड़ा अंतर है. भारत में राम की नगरी जहां अयोध्या है, वहीं इंडोनेशिया में यह योग्या के नाम से स्थित है. यहां राम कथा को ककनिन, या 'काकावीन रामायण' नाम से जाना जाता है. यहां राम कथा को ककनिन,
 या ‘काकावीन रामायण’ नाम से जाना जाता है भारतीय प्राचीन सांस्कृतिक रामायण के रचियता आदिकवि ऋषि वाल्मिकी हैं, तो वहीं इंडोनेशिया में इसके रचयि‍ता कवि योगेश्वर हैं.
इंडोनेशिया की रामायण में नौसेना के अध्यक्ष को लक्ष्मण कहा जाता है, जबकि सीता को सिंता कहते हैं. हनुमान तो इंडोनेशिया के सर्वाधिक लोकप्रिय पात्र हैं. हनुमान की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आज भी हर साल इस मुस्लिम आबादी वाले देश के
 आजादी के जश्न के दिन यानी की 27 दिसंबर को बड़ी तादाद में राजधानी जकार्ता की सड़कों पर युवा हनुमान का वेश धारण कर सरकारी परेड में शामिल होते हैं. बता दें कि हनुमान को इंडोनेशिया में ‘अनोमान’ कहा जाता है.
पिछले साल ही इंडोनेशिया सरकार ने भारत के कई जगहों पर इंडोनेशिया की रामायण पर आधारित रामलीला का मंचन करवाने की मांग की थी. इंडोनेशिया के शिक्षा और संस्कृरति मंत्री अनीस बास्वेदन भारत आए थे और उन्होंइने भारतीय संस्कृाति मंत्री महेश शर्मा से मुलाकात कर यह कहा
 कि इंडोनेशिया चाहता है कि वह साल में कम से कम दो बार भारत में अपने यहां प्रचलित रामायण का भारत के कई शहरों में मंचन करे.


Comentarios Bhojpuri Samachar

No Comment Available Here !

Leave a Reply

अपना कमेंट लिखें। कॉमेंट में किसी भी तरह की अभद्र भाषा का प्रयोग न करें। *

Follow us

Mailing list

Copyright 2017. All right reserved